Google+ Followers

Thursday, March 21, 2013

नफरत प्यार में बदलो

प्यार नफरत में बदलोगे तो मुश्किल होगी ,
नफरत प्यार में बदलो तो कोई बात बने ।

बिना चले ही सम्भलने का हुनर क्या कीजे ,
गिर जाओ फिर सम्भलो तो कोई बात बने ।

अपना ही दर्द बस रोया किया हर कोई यहाँ ,
दिल पे गम और का लेलो तो कोई बात बने ।

किसी के दिल के टूटने का दर्द  ना समझे ,
कभी अपने आप से खेलो तो कोई बात बने ।  

No comments:

Post a Comment