Google+ Followers

Friday, March 8, 2013

जीने का मजा

कितना बुरा लगता है जब ,
                   जिद करते हो और लड़ते हो ।
फिर कितना अच्छा लगता है ,
                  जब प्यार से गुडिया कहते हो ।

इक चिढ़ता एक चिढाता है ,
                           इक रूठे दूजा मनाता है ।
है गुड्डा गुडिया खेल सही ,
                     पर दिल को कितना भाता है ।

हर रोज लड़ाई होती है ,
                          तकरार प्यार में चलता है ।
तभी कहते है , जीने का मजा ,
                       दोस्तों के संग ही मिलता है । 

No comments:

Post a Comment