Google+ Followers

Sunday, March 10, 2013

शायरी

किस ओर वो चल देगा कब,उसको नही पता ,
              हवा की तरह उसका , आशियाँ नही कहीं ।

मैंने उसे ढूंढा बहुत ,  मिला नही मुझे ,
             मिले जाये तो कह देना , उसका भी है कोई । 

No comments:

Post a Comment