Google+ Followers

Tuesday, March 26, 2013

शायरी

आजमां  के आये हैं , हर एक  रंग को   ,

चढ़ा न कोई रंग , मुहब्बत के रंग पे । 

No comments:

Post a Comment