Google+ Followers

Sunday, June 16, 2013

शायरी

दीदार को उनके निगाह बे -करार थी ,
                       हद न रही दिल को उनके इन्तजार की ।

जाने कितनी बार टूटी नींद खुली आँख ,
                         इश्क जैसे रात - भर सर पे सवार थी ।


No comments:

Post a Comment