Google+ Followers

Wednesday, May 7, 2014

बुरा वक़्त

बुरे वक्त में ऐसा बुरा मंजर देखा ।
जहां भी देखा तूफां और बवंडर देखा ।
.
.
.
.
.
.
हम थे दुश्मनों में ढूंढते कातिल अपना ,
एक दिन दोस्तों के हाथ में खंजर देखा ।






No comments:

Post a Comment