Google+ Followers

Friday, April 26, 2013

शायरी

हर रोज गुजरते हैं वो होकर मेरे दिल से ,,


जाने क्यूँ हाले -दिल मेरा फिर भी नही समझे । 

No comments:

Post a Comment