Google+ Followers

Sunday, June 8, 2014

दिल की बेचारगी

ऐ दिल बेचारगी से तू जहाँ को देखता है क्या ,

ये दुनियादारी है अब तुझको भी यही सीखना होगा ।। 

No comments:

Post a Comment