Google+ Followers

Tuesday, June 10, 2014

वो मेरे ख़ाबों में आता है

दिवाना दिल मेरा अब भी वही धुन गुनगुनाता है ।
उसी को याद करता है जो इसको भूल जाता है ।

जमाने बाद मेरे नाम आई गाँव से चिट्ठी ,
लिखा है लौट के आजा बहुत तू याद आता है ।

मेरे सर पे बहुत इल्जाम आये हैं मुहब्बत में ,
वफ़ा ने पूछा इकतरफा मुहब्बत क्यूँ निभाता है। 

मैं तेरे साथ हूँ गम में की कोई साथ हो न हो ,
वो अक्सर कह तो देता है मगर फिर भूल जाता है ।

दिल डरता है फिर रूसवाइयां उसकी न हो जाये ,
खबर दुनियाँ को ना हो वो मेरे ख़ाबों में आता है । ।


No comments:

Post a Comment