Google+ Followers

Monday, October 6, 2014

दिल है या दिया कोई

वफाओं का सिला है ये ,
जलाता है जिया कोई ,

समझ आता नही मुझको ,
ये दिल है या दिया कोई । ।


No comments:

Post a Comment