Google+ Followers

Friday, June 23, 2017

तहज़ीब

sikha nhi pati hain jo tahjib hme insano ki

yaki kro vo moti moti sbhi kitabe jahil hai


सिखा नहीं पाते हैं जो तहज़ीब हमें इंसानों के
यकीं करों वो  मोटी - मोटी सभी किताबें ज़ाहिल हैं।

 BY
 प्रीति सुमन



No comments:

Post a Comment