Google+ Followers

Friday, August 22, 2014

मेरी वफ़ा है मेरी खता

तुझे सोंचना गलती मेरी तुझे चाहना मेरी भूल है ,



जो मेरी वफ़ा है मेरी खता तो मुझे हर सजा अब कूबूल है ।



No comments:

Post a Comment