Google+ Followers

Wednesday, September 13, 2017

ख़ाबों को मोड़ना होगा

अपने परों को उड़ने से रोकना होगा,
परिंदे फिर तुझे पिंजरे में लौटना होगा,

वक़्त के हाथ पतवार है तेरी - मेरी ,
हवाएं मुड़ गई ख़ाबों को मोड़ना होगा।।
By
प्रीति सुमन

No comments:

Post a Comment