Google+ Followers

Wednesday, September 13, 2017

चाँद पैरवी को आता है

रात का आना मुक़र्रर है इक सदी से मगर,

फ़िर भी हर रात चाँद पैरवी को आता है।

By
प्रीति सुमन

No comments:

Post a Comment