Google+ Followers

Tuesday, October 4, 2016

ख्वाहिशें

मंजिल दूर थी और बोझ था सर पे भारी,
इसलिए मार दीं सब ख्वाहिशें बारी-बारी ।।

By
प्रीति सुमन

No comments:

Post a Comment