Google+ Followers

Monday, September 19, 2016

बुने थे जाल

बुने थे जाल ख़ुद ही ख़ुद ही उलझ बैठे थे,
था कुछ भी नही क्या-क्या समझ बैठे थे।।  




No comments:

Post a Comment