Google+ Followers

Sunday, September 18, 2016

मैं

बहुत भटका अँधेरे में,मुझे मैं ने ही भटकाया,
और जब लौट कर आया,मैं
मेरे साथ न आया।

By
प्रीति सुमन

No comments:

Post a Comment