Google+ Followers

Monday, September 19, 2016

दोस्त मेरी कत्ल में शामिल निकले

दुश्मन तो बहुत थे,सब नाकाबिल निकले ,
मेरे ही दोस्त मेरी कत्ल में शामिल निकले ।।

By
प्रीति सुमन

No comments:

Post a Comment