Google+ Followers

Tuesday, September 20, 2016

मुहब्बत है

इक एहसास मुहब्बत है और कुछ भी नही ,
अनकही प्यास मुहब्बत है और कुछ भी नही,

एक जर्रा भी वही है उसी के जैसा है,
दिली- कयास मुहब्बत है और कुछ भी नही ।

No comments:

Post a Comment