Google+ Followers

Monday, September 19, 2016

जब से तुमने

जब से तुमने मुझको पढ़ना छोड़ दिया,
स्याही ने तो दर्द ही गढ़ना छोड़ दिया।।

By
प्रीति सुमन

No comments:

Post a Comment