Google+ Followers

Sunday, September 18, 2016

मुझे बरबाद होना था


बचाकर इसलिए महफूज था रखा गया मुझको, 
इकदिन इश्क के हाथों मुझे बरबाद करना था।



No comments:

Post a Comment