Google+ Followers

Saturday, September 17, 2016

मुझको भटकना था लिखा

तू मुझमें ही रहा फिर भी न तू मुझको दिखा ,
तुझे मिलना न था या मुझको भटकना था लिखा।

By
प्रीति सुमन

No comments:

Post a Comment