Google+ Followers

Saturday, September 17, 2016

मेरे ऊपर नही मेरी नजर

मुझे हर बात पर टोका गया मगर फिर भी,
हजारों ऐब मुझमें कर गए हैं घर फिर भी,

कितनी गुस्ताखियाँ देखी गई मुझमें लेकिन,
मेरे ऊपर नही रहती मेरी नजर फिर भी।

By
प्रीति सुमन

No comments:

Post a Comment