Google+ Followers

Wednesday, June 29, 2016

यादों में आओगे तुम

नहीं आने का वादा तो कर गए हो मगर ,
अब भी लगता है लौट आओगे तुम।
                         1
ये भी मुमकिन है, मुझे भूल न पाए होगे  ,
अब की आओगे तो वापस नहीं जाओगे तुम। .

                            2
मैं भी  तुम बिन अधूरा हूँ तुम्हारी ही तरह ,
जब मिलोगे यही हालात बताओगे तुम ।

                           3
कितनी मजबूर रही वक़्त के हाथों में ख़ुशी ,
फिर मेरे वास्ते उसे ढूंढ  के लाओगे तुम ।

                         4
ख़ाब हैं ,खाब मुकम्मल नहीं हुआ करते ,
याद हैं , यादों में आओगे तुम ।



2 comments:

  1. सुंदर अहसास !!

    ...

    तिरछी पड़ी तेरी नज़र की हम दिवाने हो गये,
    थे ख्वाब गुजरी रात के वो सब पुराने हो गये |.....हर्ष महाजन

    ReplyDelete
  2. Harash Mahajan ji शुक्रिया

    ReplyDelete