Google+ Followers

Wednesday, May 11, 2016

बंदगी का इल्म

ऐे खुदा मुझे माफ़ करना हो नही जाना खफा , 
बंदगी का इल्म ना था हो गई मुझसे खता ,
मैं नमाजों में गई तो जप रही थी राम को ,
मंदिरों में बैठ कर मैं याद कर आई खुदा ॥ 




Aie Jha'n Mujhe Maaf Krna, Ho Nhi Jana Khafa ,
Bandagi Ka ILm Na tha Ho Gai Mujhse Khta ..
Mai Nmajo'n Me Gai To Jap Rahi Thi Raam ko ,
Mndiro'n Me Baithkr Mai Yaad Kr Aai Khuda ....

No comments:

Post a Comment