Google+ Followers

Wednesday, May 11, 2016

खाब टूटे बुन रही हूँ

वही टेढ़ी सलाई जो सही बनती नहीं है ,
उसी से फिर से अपने खाब टूटे बुन रही हूँ ॥


Vahi Tedhi Salai Jo Sahi Bunti Nhi Hai ,,,,,,
Usi Se Fir Se Apne Khab Tute Bun Rahi Hu'n .


No comments:

Post a Comment