Google+ Followers

Sunday, July 19, 2015

ईद मेरी

खड़ी मैं छत पे रहूँ और गली से वो जाए ,
उसका दीदार  हो और ईद मेरी हो जाए ।।


Khadi Mai Chhat Pe Rahu Aur Gali Se Vo Jaye,,
Uska Didar Ho Aur EID Meri Ho Jaye .................


2 comments:

  1. क्या मासूम सी अदा है ... उनकी ईद हो जाये ...

    ReplyDelete
  2. dhnyawad Digamber Naswa sir aapka

    ReplyDelete