Google+ Followers

Tuesday, January 13, 2015

दर्द दवा हो जाता है

जब हद से दर्द गुजर जाये तब दर्द दवा हो जाता है ,
जब इश्क बंदगी हो जाये तब यार खुदा हो जाता है ,

ये वक्त रेत के जैसा है जितना भी इसे पकड़ते हैं  ,
हाथों से ऐसे फिसलता है की और जुदा हो जाता है,

किस्मत के आगे हारे हैं जाने ये कब से रूठा है ,
जितना हम इसे मनाते हैं ये और खफा हो जाता है ।

तन्हाई है बेचैनी है कुछ सपने हैं टूटे - फूटे   ,
गम की इस कड़ी दुपहरी में दिन और बड़ा हो जाता है,

जब हद से दर्द गुजर जाये तब दर्द दवा हो जाता है ,
जब इश्क बंदगी हो जाये तब यार खुदा हो जाता है ।।






No comments:

Post a Comment