Google+ Followers

Thursday, December 4, 2014

मैं अब भी राहें तकती हूँ

उससे मिलने की चाहत में ,
मैं मरती  हूँ ना जीती  हूँ ,

ये खत देकर उसको कहना ,
मैं अब भी राहें तकती  हूँ ।




No comments:

Post a Comment