Google+ Followers

Monday, September 15, 2014

बागी

उसी को भूलना था मैं उसी को याद करती हूँ ,
अभी मैं अपने ही दिल में किसी बागी के जैसी हूँ ।



No comments:

Post a Comment