Google+ Followers

Friday, August 8, 2014

जिंदगी तुम हो हमारी

बेकरारी ये खुमारी जान ले लेगी हमारी हो गया है हाल ऐसा, फिर रही हूँ मारी मारी कह न पाती रह न पाती, आरजू मैं तुझ से सारी , तुम न समझे अब भी मुझको, जिंदगी तुम हो हमारी | |





No comments:

Post a Comment