Google+ Followers

Tuesday, August 19, 2014

टूट रही हूँ धीरे - धीरे

सच बोलूँ मुस्कान के पीछे दर्द छुपे हैं बहुत घनेरे ,
यूँ लगता है भीतर - भीतर टूट रही हूँ धीरे - धीरे ।।



No comments:

Post a Comment