Google+ Followers

Monday, June 9, 2014

मुहब्बत आजमाते हैं

ये इश्क वो रस्ता है जिसपे चलने के बाद ,
लोग जीते जी जीने की चाहत छोड़ देते हैं ।

सुना हमने ये था जाता नही ये रोग जीवन भर ,
जाने लोग अब कैसे मुहब्बत छोड़ देते हैं ।

तुम भी छोड़ दो आना हमारे ख़ाब में हमदम ,
हम भी राह तकने की ये आदत छोड़ देते हैं ।

तुम भी मुस्कुराओ और हम भी मुस्कुराते हैं ,
मुहब्बत आजमाते हैं शिकायत छोड़ देते हैं । ।







2 comments:

  1. सुना हमने ये था जाता नही ये रोग जीवन भर ,
    जाने लोग अब कैसे मुहब्बत छोड़ देते हैं ..
    मुहब्बत को छोड़ना आसान नहीं होता .. लोग बहाने बनाते हैं ... पर यादों से दिल लगाते हैं ...

    ReplyDelete
  2. ji Digamber Naswa ji .......... aapne shi kha .... log muhbbt nhi chhodte ... sch bolna chhod dete hai,,,, dhnyawad

    ReplyDelete