Google+ Followers

Thursday, June 5, 2014

शायरी

अच्छा है सब चले गए अब मैं हूँ और है तू ,

जहां बात रुकी थी वहीं से फिर करें शुरू । । 

No comments:

Post a Comment