Google+ Followers

Thursday, June 5, 2014

दोस्ती जिम्मेदारी है

सोंचा तुम्हे बतादूं दिल पे बोझ बहुत ही भारी है ।
खेल न समझो दोस्त दोस्ती बड़ी सी जिम्मेदारी है ।



बिन बोले भी मैंने तेरे गम इस दिल पर झेलें हैं ,
मेरे दिल में गम उठा है आज तुम्हारी बारी है । । 

No comments:

Post a Comment