Google+ Followers

Wednesday, June 25, 2014

ज़िंदगी

खालीपन है तन्हाई है ख़ामोशी है ,
ज़िंदगी अब किसी खाली मकान जैसी है |


No comments:

Post a Comment