Google+ Followers

Monday, June 23, 2014

मुस्कान जरूरी है

 जीने के लिए कोई पहचान जरूरी है । 
पाने के लिए सच्चे अरमान जरूरी है । 



उल्फ़त भी जरूरी थी और गम भी जरूरी था ,
अब गम को छुपाने को मुस्कान जरूरी है । 








No comments:

Post a Comment