Google+ Followers

Friday, June 20, 2014

हरजाई

बेचैनी थी साँसों में और आँखों में बरसात ,
दिल पागल जिसके लिए रोया सारी रात ,

सुबह को जब आया मिलने वो हरजाई पास ,
थामे आये हाथ में और किसी का हाथ । । 


No comments:

Post a Comment