Google+ Followers

Wednesday, June 18, 2014

तेरा दिल

इस ओर चलूँ उस ओर चलूँ ,
है राह कई इक मंजिल है ।

दिल एक मुसाफिर है मेरा ,
मंजिल बस एक तेरा दिल है ।

 

No comments:

Post a Comment