Google+ Followers

Thursday, May 29, 2014

दिवानापन कर लेते हैं

हम भी कभी - कभी यारों दिवानापन कर लेते हैं ।
जो जज्बात न समझें उनकी ख़ामोशी पढ़ लेते हैं ।

फूलों की हसरत है सबको काँटे कोई नही चुनता ,
इक हम हैं अपने दामन में खुद काँटे भर लेते हैं ।

इससे उससे सबसे अब से लड़ना हमने छोड़ दिया ,
जब भी तन्हा होते हैं तो खुद से ही लड़ लेते हैं ।

अब हम नही किया करते हैं तेरी बेवफाई का गम ,
जब भी याद तेरी आती है हम तौबा कर लेते हैं । । 

No comments:

Post a Comment