Google+ Followers

Friday, May 9, 2014

जीने की वजह

शहर बदल लूँ घर बदल लूँ गली छोड़ दूँ तेरी ,
.
.
.
.
.
मगर वजह न होगी फिर कोई जीने की मेरी । । 

No comments:

Post a Comment