Google+ Followers

Tuesday, May 13, 2014

मंजिल

मंजिल दूर तक दिखता नही रस्ते हैं पथरीले ,


खुदा ने मेरी किस्मत में सफर ज्यादा ही लिखें हैं । । 

No comments:

Post a Comment