Google+ Followers

Wednesday, May 28, 2014

तुझको खुदा करूँ न करूँ

मैं तेरे इश्क में दिल को फ़ना करूँ न करूँ ।
मुझे बता दे मैं इश्के-गुनाह करूँ न करूँ ।

मैं दिल में ही दफन कर दूँ ये अरमां अपने  ,
बड़ी उलझन में हूँ चाहत बयाँ करूँ न करूँ ।

मुझे पता तो हो अब तेरी आरजू क्या है  ,
की तेरी जुस्तजू में मैं दुआ करूँ न करूँ ।

तू मेरा होके किसी और का होगा न कभी ,
कोई वादा तो दे खुद को तेरा करूँ न करूँ ।

जी करता है तुझे पूजूं तेरी इबादत कर लूँ ,
दे इजाजत मुझे तुझको खुदा करूँ न करूँ ।





No comments:

Post a Comment