Google+ Followers

Monday, May 19, 2014

मैं गम नही करती

मैं हर बार ठोकर खाकर भी कभी कम नही पड़ती ।
गिरती हूँ संभलती हूँ मगर मैं गम नही करती ।

ख़ुशी न आये घर तो क्या गम मिल जाए गर तो क्या ,
मैं पाने और खोने का  कभी मातम नही करती ।

वो जो जख्म थे नासूर से गहरे हुए दिल पर ,
थी उसकी दवा पर मैं ही अब मरहम नही करती ।

किसी से पूछकर बरसात या तूफां नही आते ,
किसी के होने न होने का गम मौसम नही करती ।


No comments:

Post a Comment