Google+ Followers

Wednesday, May 28, 2014

दिल की हिफाजत

किसी किसी पे रब ने इतनी इनायत की है ।
की यहां हर एक ने उसी से मुहब्बत की है । 

वो रूठकर ये कह गए हैं अब न बोलेंगे ,
एक ही दिल में मुहब्बत भी बगावत भी  है । 

वो बेवफा हैं किसी से भी दिल लगा लेंगे  ,
आजमाइश में तो हमारी शराफत ही है । 

न जो समझ सके हैं दिल की बंदगी को कभी ,
उन्हीं के हाथ में इस दिल की हिफाजत भी है ।



No comments:

Post a Comment