Google+ Followers

Saturday, May 17, 2014

मुहब्बत हो भी सकती है

न तुम मुझसे मिलो ज्यादा ये आदत हो भी सकती है ।
मुहब्बत ना हुई है तो मुहब्बत हो भी सकती है ।

जिन्हें अपना समझते हैं उम्मीदें उनसे होती है ,
जो अपना मानोगे हमसे शिकायत हो भी सकती है ।

बूझे अरमान का दिपक फिर रौशन हो भी सकता है ,
दबे एहसास में दोबारा हरकत हो भी सकती है ।

पहरों रास्ता तकना निगाहें राह पर रखना ,
दीवाने बन गए तो ऐसी हालत हो भी सकती है ।

वो मेरे सामने बैठे हैं उनको देख लूँ छिपकर ,
या उनसे पूछ लूँ शायद इजाजत हो भी सकती है ।

चलो अब दूर जाने की भुलाने की करें कोशिश ,
इसी तरकीब से दिल की हिफाजत हो भी सकती है ।


No comments:

Post a Comment