Google+ Followers

Sunday, May 18, 2014

इश्क की सजा

न हमने इश्क छोड़ा है न छोड़ा इश्क ने हमको ,
न बरी गम ने दिया है न बरी हमने दिया गमको ।
.
.
.
.
.
न फैसला हुआ दिल का न रिहाई मिली दिल को ,
सजा है उम्रभर की याद किये जाए सनम को ।

No comments:

Post a Comment