Google+ Followers

Thursday, May 15, 2014

तेरे जाने का सबब पूछते हैं ।

तेरे जाने से पहले जाने का सबब पूछते हैं । 
इक हम ही नही ये बात तो सब पूछते हैं । 

वजह कुछ तो हुई होगी तेरे यूँ जाने की ,
नजर क्यूँ फेर लेते हो हम ये जब पूछते हैं । 

तेरी खामोशियाँ आँखों से दिल तक चुभती है ,
दिल को होता न जब करार की तब पूछते हैं । 

न कुछ बोलोगे सब समझेंगे बेवफा तुमको ,
रहेंगे कबतलक खामोश ये लब पूछते हैं ।  










No comments:

Post a Comment