Google+ Followers

Thursday, May 29, 2014

राहें नई

*छूट जाने दे अगर छूटे पुरानी जिंदगी ,
चलता रह हर मोड़ पे मिल जायेंगी राहें नई । । *


वक्त बदला लोग बदलें और ग़ालिब भी नही रहें । तो समय के साथ
शायरी भी बदल गई। ……।



No comments:

Post a Comment