Google+ Followers

Wednesday, June 26, 2013

शायरी

मुझसे भला ये कैसी दुश्मनी निभा रहा ,,
                                तेरे सामने वजूद क्या तेरे बीमार का ।

घुट - घुट के तेरी याद में मरने से भला है  ,                       
                            इक बार में ही मार दे फिर चाहे जहाँ जा । 


No comments:

Post a Comment